भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नील कुसुम / राजकुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिरदय सरोबरोॅ में,
खिललोॅ नील कुसुम,
माटी रोॅ गंध लेनें,
अकाशोॅ केॅ समैनें,
चान सुरूज तारा नक्षत्रोॅ केॅ टाँकनें,
गरदा उड़ैनें धूरा फाँकनें,
हवा के संगें-संग,
दुआरी-दुआरी जाय छै,
कहानी कविता गीत सुनाय छै,
सुतलोॅ साँझोॅ केॅ जगाय छै,
अँधड़-अन्हारोॅ सें लड़ी केॅ
अन्हारोॅ केॅ भगाय छै,
पाटै छै मुरझैलोॅ धरती रोॅ छाती केॅ,
बाँटै छै गंध,
काटै समेटै छै फसलोॅ केॅ,
मतुर जबेॅ-जबेॅ सुरता रोॅ बतासें,
अन्तरमनोॅ केॅ झकझोरै छै,
समतैलोॅ सागर केॅ हिलकोरै छै,
ममता फाटै छै,
नील कुसुमोॅ रोॅ याद में।