भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नुकाय गेलै / सुभाष भ्रमर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऐलै भादोॅ कोयलिया नुकाय गेलै हे
फूल कासोॅ के उजरोॅ फूलाय गेलै हे

हवा बहलै कि मोॅन उमताइये गेलै
की-की कनखी सेॅ बिजुरी बताइये गेलै
केना निरमोही डगरी भुलाय गेलै हे
ऐलै भादोॅ कोयलिया नुकाय गेलै हे

उमड़ी केॅ मारै छै ननदी नेॅ जोर
रसें-रसें टूटे छै देह पोर-पोर
साँझ भेलै नै, झिंगली फुलाय गेलै हे
ऐलै भादोॅ कोयलिया नुकाय गेलै हे

रहै शुक्कर सेॅ घेरलोॅ शनिच्चर तांय मेघ
बरसै जरूर ई घाघोॅ के टेक
मतुर पियवां तेॅ जियरा कुढाय गेलै हे
ऐलै भादो कोयलिया नुकाय गेलै हे