भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

नूनू चल रे नूनू / आभा पूर्वे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नूनू चल रे नूनू
चाँद देश में घूमै लेॅ
द्वारी पर छौ ठाड़ी
नींदिया रानी चूमै लेॅ

नूनू खलखल हाँसै
नींद गीत के गावै छै
दादी नाँखी चूमै चाहै
नानी रं दुलरावै छै।

हँसतें-हँसतें नूनू
सुतलै निंदिया संगोॅ में
नूनू, बूलेॅ-दौड़ेॅ
बाढ़ समैलै अंगोॅ में