भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नूनू सुतलोॅ छै / मृदुला शुक्ला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खेली-कूदी थकलोॅ छै
नूनू बेटा सुतलोॅ छै।

बहिनी के एकसरुओॅ भाय
हमरोॅ नूनू कुँवर कन्हाय,
निंदिया रानी आबै छै
आबी तुरत सुताबै छै।

पलकोॅ केरोॅ छाँव में
परी सिनी रोॅ गाँव में,
ढेर खुशी के रंग छै
कली सिनी रोॅ संग छै
हमरोॅ नूनू सुतलोॅ छै
खेली-कूदी थकलोॅ छै।

हौले सें मुस्काबै छै
केकरा भला बुलाबै छै