भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नूर रह्या भरपूर / दादू दयाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नूर रह्या भरपूर, अमीरस पीजिये।
रस मोहैं रस होइ, लाहा लीजिये॥टेक॥

परगट तेज अनंत पार नहिं पाइये।
झिलिमिल-झिलिमिल होइ, तहाँ मन लाइये॥१॥

सहजैं सदा प्रकास, ज्योति जल पूरिया।
तहाँ रहै निज दास, सेवग सूरिया॥२॥

सुख-सागर वार न पार, हमारा बास है।
हंस रहैं ता माहिं, दादू दास है॥३॥