भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नेक काम / रूपसिंह राजपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आजकाल इश्क पर,
अर्थ कित्तो हावी है।
आजकाल गी महबूबा,
कित्ती दुनियावी है।
एक उदाहरण देखियो विचार गै।
प्रेमी बोल्यो - तेरे प्यार में मरूं हूं।
अपणै जीवण गो अन्त करूं हूं।
कुएं मैं छलांग मार गै।
माशूका बोली- मरै है तो मर,
एक नेक काम तो कर।
अब्बा गे काम आजैगो,
ओ लंगोट तो देजा उतार गै।