भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नैन हीन को राह दिखा प्रभु / भजन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नैन हीन को राह दिखा प्रभु ।
पग पग ठोकर खाऊँ मैं ॥

तुम्हरी नगरिया की कठिन डगरिया ।
चलत चलत गिर जाऊँ मैन ॥

चहूँ ओर मेरे घोओर अंधेरा ।
भूल न जाऊँ द्वार तेरा ।
एक बार प्रभु हाथ पकड़ लो । ( ३)
मन का दीप जलाऊँ मैं ॥