भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नैय्या जीवन के डोलै छै डगमग / रामधारी सिंह 'काव्यतीर्थ'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नैय्या जीवन के डोलै छै डगमग लहर बड़ी तेज छै ना ॥टेक॥
बचपना तेॅ खेल गमैल्हेॅ ऐल्हौं तोरोॅ जवानी
विषय-वासना मस्त रहलेॅ खूब करल्हेॅ मनमनानी
बिना पकड़लेॅ गुरू के पैय्यां मिलथौं कहयो नै चेना॥1॥

ठगी-ठगी भरलहेॅ माल खजाना धनों के मतवाला
पाप करतें तोरा लाज नै लागहौं एक दिन होभेॅ दिवाला
करलेॅ पुण्य कमाई जग में शांति सेॅ कटथौं दिन-रैना॥2॥

ऐथौं बुढ़ापा कफ पित्त बढ़थौं तनमा भेथों बेकाम
दाँतोॅ टुटथौं कान्हौं नै सुनथौं लटकी जैथों चाम
उठतें-बैठतें खैतें-पीतें लोर गिरथौं नैना॥3॥

अभियो आजा गुरू शरण में भजलेॅ हरि के नाम
नाम बिना ई मानुष तनमा हो जैथों बदनाम
सद्गुरू ही छेकै नाव खेवैया पार लगैथों ना॥4॥