भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नौकरी केॅ जोगौ जेना सेमरो के फूल पाखी / अनिल शंकर झा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नौकरी केॅ जोगौ जेना सेमरो के फूल पाखी
आशा लागी जीयै आस रूई नै पुराबै भाग।
खून आ पसीना दैके’ लक्ष्मी मनाबै रोजे
लक्ष्मी रूसी केॅ कहीं बारी झारी नुकी जाय।
बनरी के नैना मरै छाती तरें दाबी राखे।
सड़ल्हौ गनहैल्होॅ पर माया कनियो नै जाय।
तही ना तनोॅ के साथें मन आ धरम दै केॅ,
चाकरी सें मोह तोडी आदमी कहीं नै जाय॥