भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नौमीद करे दिल का न मंज़िल का पता दे / फ़ुज़ैल जाफ़री

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नौमीद करे दिल का न मंज़िल का पता दे
ऐ रह-गुज़र-ए-इश्क़ तेरे क्या हैं इरादे

हर रात गुज़रता है कोई दिल की गली से
ओढ़े हुए यादों के पुर-असरार लिबादे

बन जाता हूँ सर-ता-ब-क़दम दस्त-ए-तमन्ना
ढल जाते हैं अश्कों में मगर शौक़ इरादे

उस चश्म-ए-फ़ुसूँ-गीर में नज़र आती है अक्सर
इक आतिश ख़ामोश की जो दिल को जला दे

आज़ुर्दा-ए-उल्फ़त को ग़म-ए-ज़िंदगी जैसे
तपते हुए जंगल में कोई आग लगा दे

यादों के मह ओ महर तमन्नाओं के बादल
क्या कफछ न वो सौग़ात सर-ए-दश्त-ए-वफ़ा दे

याद आती है उस हुस्न की यूँ ‘जाफ़री’ जैसे
तन्हाई के ग़ारों से कोई ख़ुद को सदा दे