भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नौ अंगिका हायकू / प्रदीप प्रभात

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पिया रोॅ पाती
लगाय मन छाती
पढ़ै छी राती॥1॥

पढ़ी केॅ पाती
पिया मन भावै छै
याद आवै छै॥2॥

खोजै कन्हैया
ठहाका इंजोरिया
वनों में गैया॥3॥

बैशाख धूप
दुपहरिया रूप
दिन छै चुप॥4॥

अलबत छै
शासन-सिंहासन
ई स्वर्गासन॥5॥

हवा बहै छै
पीपर पत्ता डोलै
आशीष बोलै॥6॥

सौंसे संसार
फैशनों मंे डुबलोॅ
कत्ते लाचार॥7॥

जीवन-सार
छै पूरा परिवार
मीना बाजार॥8॥

गमकै खूब
फुललै बेली फूल
बैर-बबूल॥9॥