भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

न्याहो धोयो मंगत थाड़ो भयो रे भाई / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

न्याहो धोयो मंगत थाड़ो भयो रे भाई
लग्या रे सूरज का पाय रामा
बिजोड़ो दे रे भाई।।
सूरज देवता तुम बड़े रे भाई
तुमसे बड़ा रे न हो कोय रामा
बिजोड़ो दे रे भाई।।
कहाँ धर्या माय कपड़ा रे भाई
कहाँ धरी सिर की पाग रामा
बिजोड़ो दे रे भाई।।