भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

न्‍यू इंडिया की हनुमान कूद / कुमार मुकुल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लोग कूद रहे हैं  
अपनी-अपनी छतों से
अपने बच्‍चों का गला दबा  
अपनी पत्‍नी को साथ ले
अपनी बिजनेस पार्टनर के कंधे से कंधा मिला
लोग अपनी-अपनी छतों से कूद रहे हैं

पूर्व आइजी की बेटी कूद रही
घर के झगडे से तंग बीडीओ साहब कूद रहे
डीएम से शादी तय होने के बावजूद डॉक्‍टर साहिबा कूद रहीं
आइटीओ पुलिस मुख्‍यालय की छत से एसीपी साहब कूद रहे
कार्यालय की छत से वरिष्‍ठ पत्रकार कूद रहे
एअर होस्‍टेस कूद रही
विधायक की बेटी कूद रही  
होटल की छत से कारोबारी कूद रहा

और ज्‍यादा नहीं साहब
बस पिछले साल-डेढ साल की  
उछल-कूद है यह सब

विभाग की छत से एनआइटी छात्र कूद रहा
कैंपस की छत से आइआइटी छात्र कूद रहा
अपार्टमेंट की छत से इंफोसिस का इंजीनियर कूद रहा
कृष्‍णा हाइट्स से पालीटेकनिक की तीसरे साल की छात्रा कूद रही

अपनी बहन की छत से मुंबईया अभिनेता का भाई कूद रहा
काम न मिलने से परेशान उभरती अभिनेत्री कूद रही
मॉल की उंची छत से परेशान युवती कूद रही
कैंसर पीडित जेट एअरवेज का कर्मचारी कूद रहा

गांव में चुपचाप घर की धरण से लटक जाने वाले लोग
इसमें शामिल नहीं हैं सरकार

छापे और पूछताछ से परेशान चार्टर्ड एकाउंटेंट कूद पड़ा
अनदेखी से परेशान स्‍कूली बच्‍चा कूद पड़ा
बाप छत से कूदा तो अनुकंपा की नौकरी से परेशान बेटा झूल पड़ा
अपना गला रेतने में असफल कक्षा आठ की छात्रा अस्‍प्‍ताल की छत से कूद पड़ी
घरवालों से परेशान सोसायटी की छत से दसवीं का छात्र कूद पड़ा
 दहेजी पति से परेशान गर्भवती अपने घर की बालकनी से कूद पड़ी
अपनी छत से तलाकशुदा टीवी एंकर कूद पड़ी  
बलात्‍कार बाद की धमकियों से तंग लडकी कूद पड़ी
प्रार्थना के दौरान स्‍कूल की छत से पांचवीं का छात्र कूद पड़ा
घर की छत से शिक्षिका कूद पड़ी

यह कैसी कूद है महाशय
किस भंवर में कूदे जा रहे सब

हास्‍टल की छत से मेडिकल कालेज का छात्र कूद पड़ा
ब्‍लू व्‍हेल गेम का आदि, व्‍यापारी का लडका कूद पड़ा
गांधी अस्‍प्‍ताल की छत से विक्षिप्‍त कूद पड़ा
प्रखंड का नाजिर कूद पड़ा  
गांव की युवती कूद पड़ी

आप तो अपने मन की बात जब-तब कह लेते हैं साहब
पर ये मूरख तो बस कूदे पड़ रहे

क्‍या इन सबके लिए स्‍वर्ग में कोई नया विभाग खुला है
या ये आत्‍माएं इसी धरती पर मंडरातीं
रोज-रोज अपने लिए नया-नया साथी ढूंढ ले रहीं

सुना है  नीचे कूदने पर लोग उपर जाते हैं
आप तो उपर उपर उडते रहते हैं साहब
ये कूदने वाले क्‍या  कभी दिखते हैं  आपको

आपके न्‍यू इंडिया की
हनुमान कूद  
क्‍या यही है साहब ?