भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

न ख़ून-ए-दिल है न मय का ख़ुमार आँखों में / 'शोला' अलीगढ़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

न ख़ून-ए-दिल है न मय का ख़ुमार आँखों में
बसी हुई है तुम्हारी बहार आँखों में

फिरी हैं पुतलियाँ बे-गाना-वार आँखों में
छुपा हुआ है कोई पर्दा-दार आँखों में

उम्मीद-ए-जलवा-ए-दीदार बाद-ए-मर्ग कहाँ
भरी है यास ने ख़ाक-ए-मज़ार-ए-आँखों में

दिए बग़ैर तिरे बाग़ में गुलों ने दाग़
चुभोए नर्गिस-ए-शहला ने ख़ार आँखों में

इलाही दीदा-ए-हैराँ खुला न रह जाए
ठहर न जाए कहीं इंतिज़ार आँखों में

वो रोने वाला हूँ ‘शोला’ कि बाद-ए-मर्ग मिरा
बनाएँ मर्दुम-ए-दीदा-ए-मज़ार आँखों में