भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

न जी-जी के मरते न मर-मर के जीते / विष्णु सक्सेना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

न जी-जी के मरते न मर-मर के जीते।
वो पहलू में आते तो जी भर के जीते।

दिया थे, जिया शान से ज़िंदगी को
मुखालिफ हवाओं से क्या डर के जीते।

तुम्हे याद रहती न जन्नत तुम्हारी,
अगर कुछ दिवस मेरे नैहर के जीते।

तुम्हारे पिघलने की मालूम होती
तो बूंदों से हम भी यूँ झर-झर के जीते।

तुम्हें हो न हो हमको पाकर ख़ुशी तो
कहें कैसे हम तुमको खोकर के जीते।