भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

न हमसफ़र है न हमनवा है / विकास शर्मा 'राज़'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

न हमसफ़र है न हमनवा है
सफ़र भी इस बार दूर का है

मैं देखकर जिसको डर रहा था
वो साया मुझसे लिपट गया है

अभी टहलते रहो गली में
अभी दरीचा खुला हुआ है

तमाम रंगों से भर के मुझको
वो शख़्स तस्वीर हो गया है

तुम्हीं ने तारीकियाँ बुनी थीं
तुम्हीं ने ये जाल काटना है

नदी भी रस्ता बदल रही है
पहाड़ का क़द भी घट रहा है

चलो कि दरिया निकालते हैं
उठो कि सहरा पुकारता है