भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पंछी बोल रहे हैं / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पेड न काटो, पेड़ न काटो
पंछी बोल रहे हैं।

पेड़ बिना हम कहाँ रहेंगे?
नीड़ हमारे कहाँ बसेंगे?

उड़-उड़कर जब थक जाएँगे,
शरण कहाँ फिर हम पाएँगे?

पेड़ों से ही है हरियाली।
पेड़ों से ही है खुशहाली।

शहर हुए पेड़ों से खाली।
सूरत उनकी होगी काली।

अपना सुख न सोचो प्यारे!
हम हैं सच्चे दोस्त तुमहारे।

पंछी, पेड़, जानवर, जंगल।
बचे रहे तो होगा मंगल।