भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पंहिंजे सॾ खे छो थो बे़मानो करीं / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पंहिंजे सॾ खे छो थो बे़मानो करीं।
आस वरन्दीअ जी कमल छो थो रखीं॥

बाहि जा वारिस त दूंहां थी वया।
कंहिं जे लइ टांडा थो सांढीन्दो अचीं॥

ॾींहँ जो विच शहर में थी फुर थिए।
ऐं तूं घुघ में थो सुञ रस्तो वञीं!!

हर तरफ पिस्तोलु हाजु़र-नाजु़र आ।
पेर फेरे कहिड़े पासे भी करीं ॥ * (सा काॾे कन्दी पेर जा सुती काबे अल्लह में)

लहर साहिल जी ‘तूं छा- तूं छा’ खां तूं।
करि किनारो, ॾिसु, मतां विच में पईं॥

क़ौम जे इतिहास जो भी कजु ख़यालु।
पंहिंजी गै़रत जो अगर सौदो करीं॥