भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पंहिंजो जौहरु जताइजे कंहिं तरह / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पंहिंजो जौहरु जताइजे कंहिं तरह।
मती महफ़िल फिटाइजे कंहिं तरह॥

केरु आ जो मूंखां मथे थो चढ़े?
हेठि हुन खे झुकाइजे कंहिं तरह॥

ॿिए जे गुलशन जा गुलन नालो कढनि।
अहिड़ो को गुल खिलाइजे कंहिं तरह॥

पाड़े वारे जो सुखु ॾुखोए थो।
हाइ ही दुखु, मिटाइजे कंहिं तरह॥

पंहिंजी भूंगी भली सड़े, लेकिन।
ॿिए जो बंगुलो जलाइजे कंहिं तरह॥

कंहिं जी टोपी कमल लहे त लहे।
पंहिंजो चोलो बचाइजे कंहिं तरह॥