भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पके प्रचुर सुधान्य से... / कालिदास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: कालिदास  » संग्रह: ऋतुसंहार‍
»  पके प्रचुर सुधान्य से...
लो प्रिये हेमन्त आया!

पके प्रचुर सुधान्य से

सीमान्त ग्रामों के गिरे हैं

सतत सुन्दर, क्रौञ्च

माला से गले जिसके पड़े हैं

अगनगुण रमणीय, प्रमदा

चित्रहारी, शीतकाया,

तुहिनमय, हेमन्त सुख

देता सभी को,स्नेह छाया,
लो प्रिये हेमन्त आया!