भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पक्का / स्वरांगी साने

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पक्का घड़ा लेकर जाती थी
तो रोज़ मिल पाती थी महिवाल से
उस दिन किसी ने बदल दिया घड़ा
कच्चा घड़ा लेकर कूद पड़ी नदी में सोहनी
फिर न प्रीतम मिला न प्रीत, कच्चे ने डुबो दिया
पक्का होता तो पार हो जाती!