भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पगडंडी / महेश सिंह आनंद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बदनियति के टक्कर सें
जिनगी भर
टकरैतें रहलोॅ छी,
हर मोड़ पर मिललै
खाई
गइनौनी बेरा में
धुँधलोॅ आकाश
के धुइयाँ
आगिन के लपट
आरो घुप्प अन्हरिया
साजिश के दलदलोॅ में
धँसलोॅ जिनगी
खोजै छै
आशा के किरण
विश्वास के छाँव
ममता के पगडंडी ।