भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पग रै नीचै लाय लाग'री / मानसिंह शेखावत 'मऊ'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पग रै नीचै लाय लाग'री, डूंगर बळती दीखै है !
काकाजी री सारी कुबदां, चढ़ चोबारै चीखै है !!
मा को जायो बैर काढ़रयो, संघी मिनख सरीखै है !
बैठ्यो जड़ काटै भाई की, लगी चोट पै रींकै है !!
बेरुजगार डोलरया बेटा, जण-जण आगै झींकै है !
दारू पीकै दरबेड़ा कर, आकासां मैं फीकै है !!
घर का पूत कुँवारा डोलै, पाड़ोसी नैं टींकै है !
रामरुसग्यो राज नाटग्यो, कुण नैं आज उडीकै है !!
अड़वा ऊबा खेत-खेत मैं, ठाकर क्यूँ ना सीखै है !
पग रै नीचै लाय लाग'री, डूंगर बळती दीखै है !!