भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पछाण / रीटा शहाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गुन गुनाहट...
छन छनाहट...
खन खनाहट...
चूड़ियुनि जी खन खन आहट!
हिन बदबूदार शहर में
हीअ ख़ुशबू आ कंहिंजी?
सर सराहट...!
केरु आहीं तूं?
खन खनाहट...!
मंदर में वजुन्दड़ घिंडिणियुनि जी धीमी धुन!
छा आहीं तूं? मूं वरी पुछियो
‘कविता!’
‘किथे आहीं तूं?’
‘तुंहिंजे अन्तःकरण में!’
कहिड़ी आ पछाण तुंहिंजी?
कहिड़ी आ शक्ती तुंहिंजी?
कहिड़ी आ ख़ूबी तुंहिंजी?
‘मंू ई आ संसार खे शोख़ी बख़्शी
मूं ई ईश्वर खे हस्ती बख़्शी
हिन क़ाइनात जे कण कण में
मुंहिंजे काणि आ मदहोशी!’
ऐं?

अणॾिठे खे ॻातो मूं आ
अणॻाते खे ॼातो मूं आ
अणचखिये खे चखियो मूं आ
अणछुहे खे छुहियो मूं आ
उहाई आ पछाण मुंहिंजी
उहाई आ शक़्ती मुंहिंजी
उहाई ख़ूबी मुंहिंजी।’
मूं अखियूं बूटे छॾियूं
ऐं
खेसि ॾिसी वरितुमि!