भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

पछुआ के निःश्वास / रति सक्सेना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब भी पछुआ चला करती
मां की गुनगुनाहट बरस
झप्प-झप्प बुझने लगती
मरूस्थली रेत पर
कम हो जाती उमस
बन्द कमरे की
आज भी जब आसमान
तप कर चूने लगता है
मेरे कानों में लहराने लगती है
मां के गीत की लहरियां
सागर के हाथ उठ जाते हैं ऊपर
बरसने लगते हैं गीत झनाझन
मेरे होठों से
मां के निःश्वास बन!