भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पछ्यौराभित्र थुनिइरहे मेरा हात /अन्ना आख्मातोभा / सुमन पोखरेल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मधुरो, धमिलो पछ्यौराभित्र थुनिए मेरा हात...
'तिमी किन त्यस्ती उदाश र निन्याउरी?'
किनभने आज ठूलो चोट पुर्‍याएँ उनलाई मैले
भनाइको तीतो प्याला पिलाएर।
 
बिर्सिनै सक्तिनँ,
विक्षिप्त भएर गए उनी,
चोटले भत्काएको अनुहार लिएर गए।
रेलिङ्‌ पनि नसमाती
दौडिएर ओर्लिएँ म भर्‍याङबाट तल
बाहिर आँगनसम्म गएँ पछ्याउँदै उनलाई।
 
भक्कानिँदै भनेँ मैले,
'मैलै त ठट्टा पो गरेकी त-
साँच्चै जिस्केर भनेकी, तिमी त्यसरी गयौ भने बाँच्न सक्तिनँ म?'
उनी मुस्काए शान्तसँग, र कठोर प्रहारजस्तो सल्लाह दिए-
'यहाँ चिसो सिरेटो चलिरहेछ, भित्र जाऊ।"