भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पढ़ना अच्छा रहता है / त्रिलोक सिंह ठकुरेला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गाँव गाँव और नगर नगर।
गली गली और डगर डगर॥
चलो, सभी मिलकर जायें।
मिलकर सबको समझायें॥
अनपढ़ रहना ठीक नहीं।
अनपढ़ की कब पूछ कहीं॥
जो अनपढ़ रह जाता है।
जीवन भर पछताता है॥
लड़का हो या लड़की हो।
चलो, सिखायें सब ही को॥
हर कोई यह कहता है।
पढ़ना अच्छा रहता है॥
बिना-पढ़ा पछताता है।
पढ़ा-लिखा सुख पाता है॥
मिलकर विद्यालय जायें।
पढ़ लिख कर सब सुख पायें॥