भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पढ़ो पोथी में राम लिखो तख्ती पे राम / भजन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पढ़ो पोथी में
पढ़ो पोथी में राम लिखो तख्ती पे राम ।
देखो खम्बे में राम हरे राम राम राम ॥

राम राम राम राम राम ॐ । ( २)
राम राम राम राम राम राम । ( २)
राम राम राम राम हरे राम राम राम ॥

देखो आंखों से राम सुनो कानों से राम ।
बोलो जिव्हा से राम हरे राम राम राम ॥
राम राम

पियो पानी में राम जीमो खाने में राम ।
चलो घूमने में राम हरे राम राम राम ॥
राम राम

बाल्यावस्था में राम युवावस्था में राम ।
वृद्धावस्था में राम हरे राम राम राम ॥
राम राम

जपो जागृत में राम देखो स्वपन में राम ।
पाओ सुषुप्ति में राम हरे राम राम राम ॥
राम राम