भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पतंगों के दिन / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चरखी में छोरी नई फिर भराओ,
डोरी को मंजे का टॉनिक पिलाआ,
ये दिन मौज के हैं, पतंगें उड़ाओ,
पतंगों के दिन हैं, पतंगों के दिन!

पतंगें हवाओं से बातें करेंगी,
पतंगे पतंगों से जाकर लड़ेंगी,
वो हारेगा जिसकी पतंगें कटेंगी,
पतंगों के दिन हैं, पतंगों के दिन!

घिरी हैं पतंगों से सारी दिशाएँ,
पतंगें बनी हैं गगन की भुजाएँ,
कलाबाजियाँ हम भी आओ दिखाएँ,
पतंगों के दिन हैं, पतंगों के दिन!