भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पत्तों को दरख़्तों से जुदा होने न देगी / फ़ुज़ैल जाफ़री

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पत्तों को दरख़्तों से जुदा होने न देगी
ये ज़ुल्म तो सावन में हवा होने न देगी

अंदाज़ा करो ख़ुद कभी उस से बिगड़ कर
ताक़त है बदन में तो ख़फ़ा होने न देगी

हर लम्हा नई मेज़ नए खानों की ख़ुश्बू
दुनिया मुझे पाबंद-ए-वफ़ा होने न देगी