भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पत्थर / मंजूषा मन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मत फूँको मुझ में
प्राण,

नहीं चाहती मैं
किसी पैर के
अंगूठे की छुअन से
खो देना
अपना पथरीलापन,

अब भाने लगा है मुझे
पत्थर होना...

यूँ भी,
जी कर क्या पाया था
दर्द के सिवा
और अब जी कर
क्या पाऊँगी
सिवाय दर्द के...

मैं अहिल्या भली!!!