भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पथवरी ए तैं पथ की ए राणी / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पथवरी ए तैं पथ की एक राणी
भूल्या नै राह तिसायां नै पाणी
बिछडूयां नै आण मिलाइओ हो राम
पथवारी ए तैं सींज कुआरी
नूं घर बर पाइओ हो राम
पथवारी ए तैं सींज सुहागण
पति की सेवा कराइओ हो राम
पथवारी ए तैं सींज सपूती
नूं पूत्तर घर पाइओ हो राम
पथवारी ए तैं सींज ए बूढ़ी
बैकुंठा मैं बासा पाइओ हो राम