भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पद / 3 / चन्द्रकला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बैठे हैं गुपाल लाल प्यारी बर बालन में,
करत कलोल महा मोद मन भरिगे।
ताही समै आती राधिका को दूरही तें देखि,
सौतिन के सकल गुमान गुन जरिगे॥
‘चन्द्रकला’ सारस से तिरछी चितौनिवारे,
नैन अनियारे नैकु पी की ओर ढरिगे।
नेह नहें नायक के ऊपर ततच्छन ही,
तीच्छन मनोभव के पाँचो बान झरिगे॥