भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पनिया ले आवे गइलीं पकवा इनरवा / रामरक्षा मिश्र विमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पनिया ले आवे गइलीं पकवा इनरवा
से फूटि गइले
दीनानाथ मोर घरिलवा, से फूटि गइले।

सासु मोरा मारे काँचे बाँस के कइनिया
पोरे-पोरे टीसे
दीनानाथ ई दरदिया, पोरे-पोरे टीसे।

छोटकी गोतिनिया धइली बाँझिनि के नउँवा
से कइसे जीहीं
दीनानाथ ई जिनिगिया, से कइसे जीहीं।

अतना बचन जब सुनले अदितमल
से लोर पोंछेले
तिवई अब नाहीं रोइबू, से लोर पोंछेले।

जइसे के तिवई हमके मन से गोहरवलू
से गोदिया भरिहें
हमरे अइसन बलकवा से गोदिया भरिहें।