भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पप्पू खा लो चाऊमिन / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पप्पू, खा लो चाऊमिन,
फिर नाचो जी धा धिन-धिन।
डब्बू, खा लो रसगुल्ला,
फिर बोलो हल्ला-गुल्ला।
चिंकी, खा लो दूध-मलाई,

फिर खेलो छुआ-छाई।

चिनिया खाएगी जब रबड़ी,
बन जाएगी वह भी तगड़ी।
मुन्ना, खाएगा क्या डोसा,
पूछ रहे हें अपने मौसा।
पिंटू, पी लो यह ठंडाई,
अब करना मत झगड़ा भाई।