भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

परंपरा / रवि पुरोहित

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पगडंडी से निकली-
एक पगडंडी
और थोड़ी दूर चलकर
वह मिल गई
आम रास्ते में !

लोगों ने कहा-
समझदार थी बेचारी ।

राजस्थानी से अनुवाद: स्वयं कवि द्वारा