भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

परन्तु अब / प्रेमशंकर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पहले लोग लतिया दिए जाते थे
या लठिया दिए जाते थे
फिर लोग गलिया दिए जाते रहे
छुआछूत के ख़िलाफ़
सिर्फ़ बोलने पर
परन्तु अब
लोग बमिया दिए जाते हैं
इसके ठीक विपरीत
अत्याचारी लोग
मानसिक छुआछूत दिमाग़ में पाले
सुर्ख़ियाए जा रहे हैं
आदमी का ख़ून चूसने के बाद
कितनी बड़ी तरक़्क़ी की है
इस सठियाए हुए
कुसियाए हुए लोगों ने!