भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

परस है लारै / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खुदाई में
निकळ्यो है तो कांई
हाल जींवतो है
काळीबंगां सै’र
जिण भांत जींवतो है
हाल आपणै मन में
आपणौ बाळपणो
हाल
करावै उनमान
आपरी आबादी रो
आबादी री चै’ल-पै’ल रो
घरदीठ पड़ी
हरमेश काम आवण आळी
अरथाउ जिन्सां रो
जिन्सां माथै
माणसियो परस
परस रै लारै
मोह मनवार
सगळो कीं तो जींवतो है
काळीबंगा रै थेड़ में।