भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पराजित प्रारब्ध / केदारमान व्यथित

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज



लोभ लाग्दा तिम्रा ती गाँसहरु प्रत्येक नै
अरुकै थालबाट खोसिएर आएका हुन् भन्छन् नि,
हारेका प्रारब्धहरुले
त्यस्तै त भन्छन् नि ।