भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पराधीनता-निशा कट गयी / गुलाब खंडेलवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पराधीनता-निशा कट गयी, स्वप्न ब्रिटिश-साम्राज्य हुआ है
पहली बार आज ही अपने घर में अपना राज्य हुआ है
. . .
पलटा दिन, इतिहास, भाग्य ने पुन: आज अँगड़ाई ली है
प्रथम बार खुल गयी सवा मन की श्रृंखला कलाई की है
पराधीनता की वह रजनी, पूछो मत कैसे काटी है
भूल न पाती लिये हृदय में घाव खड़ी हल्दीघाटी है
. . .
आओ लौट, सुभाष! न अब दर-दर की ठोकर खानी होगी
आज तुम्हींको लाल किले पर विजय-ध्वजा फहरानी होगी
आज अमर कवि के स्वप्नों का नंदन उतर पड़ा है भूपर
हिमपति खड़ा दहाड़ रहा है किये तिरंगा झंडा ऊपर