भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

परिछनि गीत / शशिधर कुमर 'विदेह'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

द्विरागमन / दुरागमन / गौना केर बादक परिछनि

चलू–चलू सखी आजु अयोध्या, परिछऽ रघुवर श्रीराम केँ ।
नेने आयल छथि संग मे बहुरिया, जनकपुर केर चान केँ ।।

                   गेल छलाह यज्ञक रक्षा लए,
                   मुनि कौशिक केर संग ।
                   जाय जनकपुर कयलन्हि ओहिठाँ,
                   शिवक धनुषकेँ भंग ।
जाय मिथिला नगरिया रखलन्हि ओ, मिथिलेशक मान–सम्मान केँ ।
चलू–चलू सखी आजु अयोध्या, परिछऽ रघुवर श्रीराम केँ ।।

                   कान दुहु कुण्डल लटकै छन्हि,
                   गला मे कञ्चन हार ।
                   डाँढ़ शोभन्हि बिअहुतिया धोती,
                   माथ पर ललका पाग ।
सुन्नर हिनकर सुरतिया लगय छन्हि, आ मुँह पर मधुर मुस्कान गे ।
चलू – चलू सखी आजु अयोध्या, परिछऽ रघुवर श्रीराम केँ ।।

                   श्रीराम–सिया, भरत ओ माण्डवी,
                   लखनोर्मिल, शत्रुघ्न–श्रुतिकीर्त्ति ।
                   मोनहि मोन होइछ हर्षित सभ,
                   देखि ई अनुपम चारू जोड़ी ।
सुन्नर चारू ई जोड़िया लगैत’छि, सखी जेना चकोर आ चान गे ।
चलू–चलू सखी आजु अयोध्या, परिछऽ रघुवर श्रीराम केँ ।।

                   कनक दीप ओ घी केर बाती,
                   कञ्चन थार सजल दुहु हाथ ।
                   हर्षित मन परिछथि तीनू माता,
                   एकाएकी बारम्बार ।
देखि चारू बहुरिया, होइ छथि हर्षित, सभ बासी अयोध्या धाम केर ।
चलू–चलू सखी आजु अयोध्या, परिछऽ रघुवर श्रीराम केँ ।।