भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

परिभाषा / रामशंकर मिश्र 'पंकज'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दुनियाँ फटलोॅ ओछानक लब्बोॅ खोल छिकोॅ ।
उमर कै लीटर पेट्रोल छिकोॅ ।
शरीर कुइयाँक एकटा दोल छिकोॅ ।
आवश्यकता कुकरोॅ के बड़का घोल छिकोॅ ।
रिश्ता दू टा बनियाँ के मोल छिकोॅ ।
आशा देबालोॅ के लटकलोॅ झोल छिकोॅ ।
धरम एक जुगोॅ के बजैलोॅ ढोल छिकोॅ ।
परंपरा एक जूता के घिसलोॅ सोल छिकोॅ ।
मरण एकटा कुलकुलोॅ ओल छिकोॅ ।
जीवन एकटा मीट्ठोॅ बोल छिकोॅ ।