भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

परों को काट कर सुनवाइयाँ करने लगा कातिल / विकास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

परों को काटकर सुनवाइयाँ करने लगा क़ातिल
परिन्दे हैं बहुत मासूम यह कहने लगा क़ातिल

हज़ारों अधमरे सपने घटा की आँख से लेकर
किसी बारिश के मौसम में उन्हें रखने लगा क़ातिल

नदी को लांघकर जब सामने आया परिन्दा तो
इमारत की किसी बुनियाद-सा हिलने लगा क़ातिल

किसी की झील-सी आँखों में सपनों को बिखरते देख
उदासी ओढ़कर जज़्बात को पढ़ने लगा क़ातिल

किराए के घरों में क़ैद उन बीमार बच्चों के
दवा के खर्च का अनुमान कर हँसने लगा क़ातिल