भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पर्यावरण-प्रदूषण / प्रदीप प्रभात

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इक्सवीं सदी रोॅ तरी सेॅ
उठी रहलोॅ छै करूआ छुईयां
छानी रहलोॅ छै धरती सरंगोॅ केॅ
फैक्टरी, मोटरकार, टैक्सी, मैक्सी सबनेॅ
प्रदूषण केॅ बढ़ाय रहलोॅ छै कुहासा जुंगा।
आदमी छटपटाय रहलोॅ छै
करूआ छुईयां सेॅ
आदमी मजबूर छै-सांस लै सेॅ
आदमी जीवी रहलोॅ छै धुईयां मेॅ।
आदमी रोॅ दिमाग धुईयां जुंगा
कारोॅ होय रहलोॅ छै।
इक्सवीं सदी मेॅ देखाय छै खाली
धुईयाँ। धुईयाँ॥ धुईयाँ॥।
प्रदूषण रोॅ प्रकोप छेकै बाढ़ सुखाड़
प्रदूषण सेॅ बचै रोॅ एक्केॅ उपाय छै
लगावोॅ हर आदमी आपनोॅ नामोॅ पर एक गाछ
गाछी ही देतौं छाँव
तयैं आदमी केॅ मिलतौं ठॉव।
तभियें सांस लियें सकभोॅ आदमी
खुशहाल रहेॅ सकभोॅ आदमी
इक्सवीं सदी मेॅ संकल्प लेॅ हमरानी।
हे धरती माय। तोहेॅ हमरी कामधेनु छेकी
हमरोॅ अमृत कलश, तारोॅ हवा, तोरोॅ पानी सेॅ
तोरोॅ आगिनी सेॅ, हम्मेॅ आदमी सेॅ देवता बनै छी।
तोरोॅ रोईयां-रोईयां केॅ चंदन बनैलेॅ राखबौं।

-‘कंचन लता’ में प्रकाशित