भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पर्वतों के नील से किसक रही है / तेजी ग्रोवर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तब तो, उसकी प्रतीक्षा करते हुए मैं खो बैठूँगा उसे|
                                       — काफ़्का

पर्वतों के नील से किसक रही है बर्फ़ की धूप नदी के मुख में। “मात्सुशिमा / आह मात्सुशिमा / मात्सुशिमा!” लुन्स्दाल से हलकी कूक के साथ आर्कटिक की सफ़ेद रात में टहल आती हैं ट्रेन की खिड़कियाँ। बौनों का और से और रूप धरते हैं उत्तर की ओर धीमे-धीमे भागते हुए पेड़। ध्रुवों के पानी होते श्वेत में अपनी भूख को लिए-लिए फिरते हैं बर्फ़ के चौपाए।

हो सकता है क्या इतने क़रीब से छूकर भी मैंने खो दिया हो उसे?