भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पर ए हुमा इक महान पर है / ज़िया फ़तेहाबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पर ए हुमा इक महान पर है |
परिन्दा ऊँची उड़ान पर है |
 
ज़मीं को पामाल करने वाला
दिमाग़ जो आसमान पर है |
 
उतर के धरती पे आ न जाए
वो धूप जो सायबान पर है |
 
कभी तो आएगी मेरे लब पर
वो बात जो हर ज़ुबान पर है |
 
बिगड़ के जब से गया है कोई
बनी हुई दिल पे जान पर है |
 
क़दम हद ए लामकाँ में लेकिन
नज़र अभी तक मकान पर है |
 
समुन्दरों से कहाँ बुझेगी
वो तिशनगी जो उठान पर है |
 
" ज़िया " ये कैसी है बदगुमानी
शक उस को मेरे गुमान पर है |