भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पल रहे हैं कितने अँदेशे दिलों के दरमियाँ / हसन आबिदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पल रहे हैं कितने अँदेशे दिलों के दरमियाँ
रात की परछाइयाँ जैसे दियों के दरमियाँ

फिर किसी ने एक ख़ूँ-आलूद ख़ंजर रख दिया
ख़ौफ़़ के ज़ुल्मत-कदे में दोस्तों के दरमियान

क्या सुनहरी दौर था हम ज़र्द पत्तों की तरह
दर-ब-दर फिरते रहे पीली रूतों के दरमियाँ

ऐ ख़ुदा इंसान की तक़्सीम-दर-तक़्सीम देख
पारसाओं देवताओं क़ातिलों के दरमियाँ

आशिती के नाम पर इतनी सफ़-आराई हुई
आ गई बारूद की ख़ुश-बू गुलों के दरमियाँ

मेरा चेहरा ख़ुद भी आशोब-ए-सफ़र में खो गया
मैं ये किस को ढूँढता हूँ मंज़िलों के दरमियाँ