भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पहले अपने दिल को दीवाना कहूं / सिया सचदेव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पहले अपने दिल को दीवाना कहूं
फिर कहीं चाहत का अफसाना कहूं
 
बारहा कहता है मुझ से मेरा दिल
मैं तेरी आँखों को मयखाना कहूं
 
कब से मेरे दिल में रहता है वोह शख्स
किस ज़बां से उसको अनजाना कहूं
 
मुझको सच कहने की आदत है बहुत
कातिलो को कैसे दीवाना कहू
 
कहता है दिल कम से कम इक बार तो
शमा उस को खुद को परवाना कहूं
 
जाने कब से खुश्क है आंखे तेरी
किस तरह मैं इसको मयखाना कहू
 
ज़ेहल के जो लोग पैरोकार हैं
चाहते हैं मैं उन्हें दाना कहू

उस की मूरत बस गयी दिल में सिया
फिर ना क्यूं इस दिल को बुतखाना कहूं