भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पहले पहर को सपनो सुनो मोरी सासो जी महाराज / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

पहले पहर को सपनो, सुनो मोरी सासो जी महाराज।
राम लखन दोऊ भइया, अंगन बिच तप करें महाराज।
ननदी लयें बेला भर तेल, सांतिया लिख रही महाराज।
भौजी बैठी मांझ मंझौटे, हार नौने गुह रही महाराज।
इतने में आ गई बारी ननदी, विहंस के बोलिये महाराज।
भौजी हुए लालन तुम्हारे, हार हम लै लैहें महाराज।
चूमो बैयां तुम्हरी हथुरिया, घिया गुड़ मुँह भरो महाराज।
सुनो बारी ननदी हमारी, हार तुम लै लियो महाराज।