भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पहले मेरे सुर्खरूपन को खिजाएँ ले गईं / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पहले मेरे सुर्खरूपन को खिजाएँ ले गईं ।
और फिर पत्तों को पतझड़ की हवाएँ ले गईं ।

रात जो दिल पर जमे थे आस के क़तरे उन्हें,
सुब्ह बेदारी के सूरज की शुआएँ ले गईं ।

कुछ उमीदें बँध गईं थीं बादलों की डोर से,
वो उमीदें भी बिना बरसे घटाएँ ले गईं ।

रौशनी के गीत गाते थे फ़सीलों के चराग़
मस्लहत की आँधियाँ उनकी सदाएँ ले गईं ।

उस ज़माने के ख़लीलों को कहाँ ढूँढें ’नदीम’,
चोंच में उनको दबा कर फाख्ताएँ ले गईं ।